ब्याज के बारे में स्पष्ट रहें। क्रेडिट कार्ड के मामले में यह बहुत महत्वपूर्ण है। उन्हें क्रेडिट कार्ड बिलों पर ब्याज शुल्क दिखाएं। मैंने अपने कुछ पुराने क्रेडिट कार्ड बिलों को बचाया है - उन दिनों से जब मैं संतुलन लेना चाहता था - मेरे बेटे को बड़ा होने पर दिखाने के लिए। ध्यान दें कि ब्याज कोई वापसी मूल्य प्रदान नहीं करता है। यह सब किसी और को अमीर बना देता है। इंगित करें कि क्रेडिट कार्ड किसी और के पैसे का प्रतिनिधित्व करते हैं, और यही कारण है कि उन्हें हर महीने अपने शेष राशि का भुगतान करना चाहिए। भले ही आपको अपने बच्चे को क्रेडिट कार्ड नहीं मिलता है, फिर भी यह सिखाने के लिए एक महत्वपूर्ण सबक है। कौन जानता है कि वह बाद में क्या करेगा।
वास्तव में, मूल बातें शुरू करना एक अच्छा विचार है। उस समय, गेविन इस तथ्य को समझ नहीं पाए थे कि चार तिमाहियों में एक डॉलर बराबर है। लेकिन उन्हें पता था कि हमें चीजों को खरीदने के लिए पैसे चाहिए। और हमने पैसे के लिए अन्य उपयोगों के बारे में उसे पढ़कर अपने क्षितिज का विस्तार करने की कोशिश की। ऐसा करने के लिए, हमने लिफाफे को अपने बड़े (हाल ही में खाली) मनी जार में रखा:

हालांकि, कुछ संभावित रूप से आत्म-सिखाए गए पाठकों को तब तक पढ़ने का आनंद नहीं ले सकता जब तक कि वे कोड तोड़ना शुरू नहीं कर देते। यही है, वे महसूस करते हैं कि किसी पृष्ठ पर अक्षर भाषा का प्रतिनिधित्व करते हैं और फिर वे उस प्रतीक प्रणाली के बारे में अधिक जानने के लिए पढ़ना चाहते हैं। ये बच्चे पूछ सकते हैं कि जो भी उन्हें पढ़ रहे हैं, उन्हें शब्दों को इंगित करने के लिए जो भी पढ़ रहे हैं, या यदि वे अभी तक बात नहीं कर रहे हैं, तो पाठक की उंगली पकड़ सकते हैं और इसे पढ़े जा रहे प्रत्येक शब्द में ले जा सकते हैं। अपने युवा बच्चे में इन संकेतों पर ध्यान दें, और पढ़ने और किताबों के बारे में जिज्ञासा को प्रोत्साहित करने का प्रयास करें।
Tags:bachon ki parwarish in hindi, child care tips for parents in hindi, child care tips in hindi, child development in hindi, children care tips in hindi, good parenting tips in hindi, how to teach lkg and ukg students, methods of teaching in pre primary school, parenting in hindi, parenting tips in hindi, speech for parents in hindi, teaching tips in hindi, बच्चे की परवरिश, बच्चों की परवरिश कैसे करें
पंजाब केसरी हिन्दी न्यूज की आधिकारिक वेबसाइट पर आपको न सिर्फ पल -पल की खबर मिलेगी बल्कि आप देख सकते हैं देश और दुनिया के वीडियो भी। क्योंकि हमारे पास है वीडियो और टैक्स्ट की खबरों के लिए एक हजार से ज्यादा रिपोर्ट्स का बड़ा नेटवर्क, जो आप तक सबसे पहले और तेजी से पहुंचा रहे हैं हर खबर। देश, दुनिया,खेल, व्यापार, बॉलीवुड और राजनीति से जुड़ी खबरों के अपडेट के लिए बने रहें पंजाब केसरी के साथ।
दान। कई व्यक्तिगत वित्त गुरु तनाव देते हैं कि यह कितना महत्वपूर्ण है। और शोध खुशी को बनाने के एक तरीके के रूप में इस प्राथमिकता का समर्थन कर रहा है। यह कुछ ऐसा है जो हम अपने बच्चों को सिखााना चाहते थे: कि जीवन में उनकी सफलता सिर्फ खुद की तुलना में अधिक है। हम इस बारे में बात करते हैं कि हमें कितनी भाग्यशाली चीजें हैं जिनकी हमें आवश्यकता है, और हम बताते हैं कि जब दूसरों को इतना विशेषाधिकार नहीं मिलता है। गेविन पहले से ही जानता है कि हम थ्रिफ्ट स्टोर्स को दान करके दूसरों की मदद कर सकते हैं, जिसे हम नियमित रूप से करते हैं। और जब हमने अपनी तीन लिफाफा प्रणाली शुरू की, तो उसने जरूरतमंदों की मदद करने के प्रयासों के लिए हमारे चर्च को दान देना शुरू कर दिया।

स्कूल जाने से पहले बच्चे अपने मां-बाप से ही घर पर बहुत कुछ सीखते हैं। उन्हें बच्चों का प्रथम गुरु कहा जाता है लेकिन आज की इस तेज रफ्तार भागती जिंदगी में माता और पिता दोनों काम में बिजी रहने लगें हैं, जिसकी वजह से वह बच्चों की परवरिश और पढ़ाई दोनों की तरफ ध्यान नहीं दे पाते। पैरेंट्स स्कूल टीचर और ट्यूशन पर ही निर्भर हो गए हैं, उन्हें पता ही नहीं है कि बच्चों को पढ़ाने का सही तरीका क्या है? वैसे बच्चा स्कूल-ट्यूशन में तो दूसरे बच्चों के साथ बैठकर काफी कुछ सीखता-पढ़ता है लेकिन घर पर भी उस पर ध्यान देना बहुत जरूरी है लेकिन उससे पहले पैरेंट्स को बच्चों को पढ़ाने का सही तरीका पता होना चाहिए, तभी वह बच्चों को अच्छी तरह से हैंडल कर सकते हैं।
उन्हें ज़िम्मेदारी दो। अगर बच्चे अपने पैसे का उपयोग केवल वही चाहते हैं जो वे चाहते हैं, तो उन्हें शायद कठिन विकल्प नहीं लेना पड़ेगा। आप उनकी सभी जरूरतों के लिए उपलब्ध करा रहे हैं। इसलिए उन्हें बस यह तय करना होगा कि कौन सा खिलौना, वीडियो गेम, या डिज़ाइनर जो भी वे चाहते हैं। लेकिन यदि आप उनमें से कुछ ऑनस डालते हैं तो आप उन्हें अधिक वित्तीय रूप से जिम्मेदार बनने में मदद कर सकते हैं। उदाहरण के लिए, उन्हें साल के लिए बजट खर्च करने के अपने कपड़ों का हिस्सा दें, लेकिन उन्हें स्कूल की खरीदारी में अपनी पीठ के लिए ज़िम्मेदार बनाएं। अगर वे कुछ गलतियां करते हैं, तो उन्हें दो। वे इसे समझ लेंगे। और यह बेहतर है कि वे अब ऐसा करते हैं जब वे अपने बीसवीं सदी में डिजाइनर जींस की तुलना में बहुत अधिक हैं।
ये ते आप भी जानते होंगे कि बच्चे सुनने से ज्यादा देखने वाली चीज जल्दी याद करते हैं। बेहतर है कि उन्हें आप जो भी पढ़ाएं उसका एक वीडियो अपने कंप्यूटर, लैपटॉप या मोबाईल पर दिखाएं, यह बच्चों को पढ़ाने का सही तरीका माना जाता है। इलेक्ट्रॉनिक गैजेट हमेशा बच्चे को बिगाड़ते नहीं बल्कि उन्हें नई लर्निंग टेक्नीक्स सिखाने में आपकी मदद करते हैं। इन दिनों यूट्यूब पर बच्चों के लिए कई ऐसे लर्निंग वीडियोज हैं, जिन्हें देखकर आधी से ज्यादा चीजें वे खुद ही सीख जाएंगे। बच्चों को क्रिएटिव तरीके से पढ़ाने का ये बेस्ट तरीका है।
ऐसे में पहली कक्षा के जो बच्चे अभी अपनी समझ पुख्ता करने की कोशिश में हैं उनको कम प्रयास करने का मौका मिलता है। साथ ही साथ शिक्षक पहली कक्षा के हर बच्चे तक नहीं पहुंच पाते, जो इस स्तर के बच्चों के लिए बेहद जरूरी है। इसी मसले पर मैंने बात की पहली-दूसरी कक्षा के बच्चों को हिंदी भाषा में पढ़ना-लिखना कैसे सिखाया जाए इस मुद्दे पर अच्छी पकड़ रखने वाले जितेंद्र कुमार शर्मा से।

किसी कविता, कहानी या गद्य को पढ़ने के बाद उसके बारे में चिंतन या रिफलेक्शन करें। उसके बारे में थोड़ा ठहकर सोचें कि लेखक ने ऐसी बात क्यों लिखी होगी, लेखक के सामने क्या परिस्थितियां रही होंगी, लेखक कहना क्या चाहता है, क्या लेखक अपनी बात को प्रभावशाली ढंग से कह पा रहा है इत्यादि। ऐसे प्रयास से आपको पढ़ी हुई किताब की सामग्री और उसके मुख्य बिंदु याद रहेंगे।
Liver disease can kill this baby girl without urgent help AdMIlaapInstant Term Life Insurance Quotes from over 30 companiesAdPKA InsuranceBollywood celebrities who belong to royal families!AdCRITICSUNIONHillary's Entire "Hit List" Just Went Public. You'll Never Guess Who's #1AdHSI OnlineCelebrities who belong to royal families!AdCRITICSUNIONTop 10 richest business families in the world 2018AdWIRAL GYANजब 164 स्काई डाइवर्स ने आसमां में रचा इतिहासNAVBHARATTIMESदेखें, फेक बोले कौवा काटे का 32वां ऐपिसोडNAVBHARATTIMESस्तन के नौ प्रकारNAVBHARATTIMESInstant Term Life Insurance Quotes from over 30 companiesAdPKA InsuranceRichest Cricketers in the world.AdCricUnion10 Richest Cricketers in the World right now.AdCricUnionDownload India’s leading free Portfolio Management SoftwareAdMPROFIT SOFTWARE PRIVATE LIMITED5 Unforgettable Underwater HotelsAdBooking.com9 Top Romantic Hotels In The World To ProposeAdBooking.com15 लाख बीयर की बोतलों से बना है यह अद्भुत मंदिरNAVBHARATTIMESइन 3 चीजों से वास्ता रखनेवालों का विनाश है निश्चितNAVBHARATTIMESविंडोज मोबाइल यूज करते हैं तो बदल लें, यह है वजहNAVBHARATTIMES
एक और बात महत्वपूर्ण यह है की प्रतिदिन के पढाई को किसी न किसी माध्यम से खेल से जोड़ने का प्रयास करें | ध्यान रहे की आपके बच्चे वर्ण क के साथ – साथ क से पाँच शब्द भी सीख चुके हैं , उन्हीं पाँच शब्दों को खेल में उतरना है | उदाहरन के लिए – कक्षा में बीस बच्चे हैं तो , पाँच – पाँच बच्चों का समूह बनेगा और हर समूह को एक शब्द दिया जायेगा | जैसे – कटोरी वाले समूह बतायेंगे की वो कटोरी में क्या – क्या खाना पसंद करेंगे | इसी तरह हर समूह अपने – अपने शब्द के बारे में बतायेगा |
9. दूसरे बच्चों से मारपीट करे तो... कई पैरंट्स इस बात पर बहुत खुश होते हैं कि उनका बच्चा मार खाकर नहीं आता, बल्कि दूसरे बच्चों को मारकर आता है और वे इसके लिए अपने बच्चे की तारीफ भी करते हैं। दूसरे लोग शिकायत करते हैं तो उलटा पैरंट्स उनसे लड़ने को उतारू हो जाते हैं कि हमारा बच्चा ऐसा नहीं कर सकता। कुछ मांएं कहती हैं कि तुम दूसरे बच्चों को मारोगे तो इंजेक्शन लगवा दूंगी, टीचर से डांट पड़वा दूंगी या झोलीवाला बाबा ले जाएगा। थोड़े दिन बाद बच्चा जान जाता है ये सारी बातें झूठ हैं। तब वह और ज्यादा पीटने लगता है। 
पैरंट्स बच्चे पर गुस्सा करते हैं। मां कहती हैं कि तुमसे बात नहीं करूंगी। पापा कहते हैं कि बाहर खाने खिलाने नहीं ले जाऊंगा, खिलौना खरीदकर नहीं दूंगा। थोड़ा बड़ा बच्चा है तो पैरंट्स उससे कहते हैं कि कंप्यूटर वापस कर, मोबाइल वापस कर। तुम बेकार हो, तुम बेवकूफ हो। अपने भाई/बहन को देखो, वह पढ़ने में कितना अच्छा है और तुम बुद्धू। कभी-कभार थप्पड़ भी मार देते हैं।

अलास्का हुस्कीखोया एन्जिल्स पशु बचावकुत्तों के लिए हाइड्रोजन पेरोक्साइडकॉकर स्पेनियलछोटे कुत्तों जो दोस्ताना दोस्त हैंपीसी पाउंड पिल्लेतेजी से और सुरक्षित रूप से रक्तस्राव से कुत्ते की नाखून को कैसे रोकेंआपके कुत्ते के राशि चक्र साइन इन उनके बारे में क्या कहते हैं?हार्टब्रोकन सैनिक अपने सैन्य कुत्ते साथी के शरीर पर अमेरिकी ध्वज देता है क्योंकि वह दूर जाता हैमाँ भालू: जीवन से भरा, समय से बाहरखोया कुत्तों लेखक जिम गोरंट वार्ता, पिट बुल्सरालेघ, एनसी ने कुत्ते के लिए यूथनेसिया के बजाय थेरेपी पर विचार किया
दुनिया में कोई भी पैरंट्स परफेक्ट नहीं होते। कभी यह न सोचें कि हम परफेक्टली बच्चों को हैंडल करेंगे तो वे गलती नहीं करेंगे। बच्चे ही नहीं, बड़े लोग भी गलती करते हैं। अगर बच्चे को कुछ सिखा नहीं पा रहे हैं या कुछ दे नहीं पा रहे हैं तो यह न सोचें कि एक टीचर या प्रवाइडर के रूप में हम फेल हो गए हैं। बच्चों के फ्रेंड्स बनने की कोशिश न करें क्योंकि वे उनके पास काफी होते हैं। उन्हें आपकी जरूरत पैरंट्स के तौर पर है।
स्कूल शरद ऋतु की छुट्टियां आपके बच्चे के साथ रहने, उसे संग्रहालय में ले जाने, चिड़ियाघर में उसके साथ जाने या किसी अन्य मनोरंजन के साथ आने का एक शानदार अवसर है। अब मनोरंजन और आराम की पसंद काफी बड़ी है, कई संग्रहालय और प्रदर्शनी बच्चों के लिए खुले हैं। और पिता और माता का व्यवसाय कार्यक्रम पर अग्रिम रूप से सोचना है। अनुदेश 1 एक बच्चे के साथ शरद ऋतु की छुट्टियों में, आप संग्रहालय एस्टेट "कोलोमेन्स्कॉय" पर जा सकते हैं। यहां, न केवल शानदार दृश्य, बल्कि बच्चे को प्राचीन वास्तुकला के नमूनों और XVII-XVIII सदियों के जीवन से भी परिचित कराया जा सकता है। कोलोमेन्स्कोए में कई छोटे संग्रहालय हैं और
घर में दादा-दादी जब बच्चों को शिक्षाप्रद कहानियां सुनाते हैं, तो वह उनके अवचेतन मन में चली जाती है। इससे उनमें जीतने का जज्बा, संघर्ष का एहसास, हार न मानना ऐसी कई बातें आ जाती हैं। समूह में रहना, मां-पिता तथा बुजुर्गों का सम्मान करना, ऐसी बातें भी वे अच्छी तरह समझने लगते हैं। यानी कहानियां बच्चों को भावनात्मक संबल देती हैं। इसलिए उनको छोटी-छोटी, लेकिन शिक्षाप्रद कहानियों से जोड़ने की कोशिश करें।
छोटे बच्चों की दुनिया काफी रंगीन होती है। किड्स को पढ़ाने के तरीके में ब्लैक एंड व्हाइट के लिए कोई स्पेस ही नहीं है। शायद यही वजह है कि बच्चे ऐसी किताबों से पढ़ना नहीं चाहते, जिनमें चित्र कम हों या फिर ब्लैक एंड व्हाइट हों। इसलिए कोशिश करें कि जिन किताबों से आप बच्चों को पढ़ा रहे हैं, वो ज्यादा से ज्यादा कलरफुल हों। इससे बच्चों को पढ़ी हुई चीजें लंबे समय तक आसानी से याद रह सकती हैं।
मेरे इस चैंनल #Only_For_Kids में आपको बच्चों की शिक्षा और Parenting Tips के सम्बंध में बहुत सारी video उपलब्ध कराई गई है जैसे - बच्चों को पढ़ाने का सही तरीका हिंदी वर्णमाला english alphabet a to z बच्चों को लिखना कैसे सिखाएँ इसके अलावा बच्चों के personality devlopment के सम्बंध में भी बहुत सारे नए-नए एक्टिविटी बताई जाती है। बहुत से पेरेंट्स कॉमेंट्स करते हैं कि मेरा बच्चा होमवर्क नहीं करता मेरा बच्चा पढ़ता नहीं है हिंदी इंग्लिश लिखना और पढ़ना सिखाओ बच्चा बहुत जिद्दी है जिद्दी बच्चे को समझाने का सही तरीका क्या होता है तो ऐसे बहुत सारे प्रश्नों का उत्तर आपको मेरे videos में मिल जाएगा क्योंकिं मैं एक primary school का टीचर हूँ और मैं रोज अलग अलग प्रकार के बच्चों के बीच मे रहता हूँ जैसे जिद्दी बच्चे होशियार बच्चे सामान्य बच्चे पढ़ाई में कमजोर बच्चे लेकिन उन सभी के लिए मैं कुछ न कुछ नए ट्रिक्स लाते रहता हूँ और पढ़ाई को रोचक बनाता हूँ जिससे वो अच्छे से पढ़ते हैं और बात भी सुनते हैं। बच्चों को जोड़ना घटाना गुना भाग सीखने के भी नए नए तरीके है जिन्हें मैं अपने video के माध्यम से आपको हमेशा सिखाते रहूँगा यदि आप भी चाहते है आपको अच्छे अच्छे बच्चों की कहानी बच्चों की पोएम कविता सुनने देखने को मिले तो ये चैंनल आपके लिए ही है। आप सभी का धन्यवाद😊🙏

पढने लिखने को मजेदार बनाएं: बच्चे को यह अच्छी आदत सिखाने के लिए सबसे ज़रूरी है कि आप किताबें पढने को अपनी रूटीन में शामिल कर लें और बच्चे को भी रोजाना इसमें बिजी रखें। इसके लिए बेहतर तरीका यही है कि पढ़ाई लिखाई को बोरिंग न बनाएं बल्कि उसे एक गेम की तरह लें और ऐसे तरीकों को अपनायें जिससे बच्चे का मन लगा रहे और उसे मजा आता रहे। धीरे-धीरे आप पायेंगी कि किताबें पढना आपके बच्चे की आदत में शामिल हो गया है।

×