एक सप्ताह के बाद मैं जेक से मिलने गई कि वो कैसे रह रहा है। उसने काफी अच्छा डिनर का आयोजन कर रखा था। हमने अपने अपने सपनों के बारे में बताया। खाने के बाद डिजर्ट के साथ साथ उसने कुछ मेरे हाथों में रखा ।मैंने नीचे देखा तो मेरे हथेली पर चाभियां रखी थी । उसने मेरे कानों में कहा “जेस ये तुम्हारा है, मैं तुम पर शिफ्ट करने का किसी तरह का दवाब नहीं बना रहा हूं लेकिन मैं चाहता हूं कि तुम्हें पता हो कि ये जगह तुम्हारा भी है। मुझे इस बात की बेहद खुशी है।“
बच्चे अपने भुगतान करते हैं।आप अपने बच्चे को ऋण या क्रेडिट कार्ड प्राप्त करने में मदद कर सकते हैं, लेकिन इससे पहले कि आप सुनिश्चित करें कि आपका बच्चा जानता है कि वह भुगतान करने के लिए जिम्मेदार होगा। उनके द्वारा चुने गए विकल्पों को बनाने के बारे में उनसे बात करें, और उन पर प्रभाव डालें कि उन्हें नियमित भुगतान करना होगा। मेरे माता-पिता ने मुझे यह स्पष्ट कर दिया कि यदि वे कार भुगतान करने के लिए समाप्त हो गए हैं, तो अब मेरे पास ड्राइव करने की कार नहीं होगी।
ऐसे में पहली कक्षा के जो बच्चे अभी अपनी समझ पुख्ता करने की कोशिश में हैं उनको कम प्रयास करने का मौका मिलता है। साथ ही साथ शिक्षक पहली कक्षा के हर बच्चे तक नहीं पहुंच पाते, जो इस स्तर के बच्चों के लिए बेहद जरूरी है। इसी मसले पर मैंने बात की पहली-दूसरी कक्षा के बच्चों को हिंदी भाषा में पढ़ना-लिखना कैसे सिखाया जाए इस मुद्दे पर अच्छी पकड़ रखने वाले जितेंद्र कुमार शर्मा से।
जब किसी किताब को पढ़ने बैठें तो उसे सरसरी निगाह से देखें। पुस्तक के लेखक-चित्रकार, प्रकाशन, मूल्य और किताब के प्रमुख चैप्टर और उसके शीर्षक को देखें फिर उसे विस्तार से पढ़ें। अपने काम से जुड़ी सामग्री को पढ़ना और वहाँ से मिलने वाले विचारों को जमीनी स्तर पर लागू करने की आदत आपको एक बेहतर क्रियान्वयन वाले लीडर के रूप में स्थापित कर सकती है। तो फिर लगातार पढ़ते रहिए, जीवन में नये विचारों को इस खिड़की से ताजी हवा के झोंकों की तरह आने दीजिए।

एक आत्म-सिखाया पाठक, जो एक सहज पाठक के रूप में भी जाना जाता है, वह बच्चा है जिसने किसी औपचारिक पढ़ने के निर्देश के बिना पढ़ना है, जिससे कोड तोड़ना है। कोड वर्णमाला और शब्दों की प्रतीक प्रणाली के रूप में वर्णमाला है। एक बच्चे को पहले यह पता चलता है कि पत्र ध्वनि का प्रतिनिधित्व करते हैं और एक साथ अक्षर शब्दों का प्रतिनिधित्व करते हैं। आत्म-सिखाए गए पाठक इस प्रतीक प्रणाली को स्वयं ही समझते हैं, कभी-कभी वर्णमाला के बारे में वीडियो टेप की तुलना में जाने के लिए थोड़ा और अधिक बार या अक्सर पढ़ने के लिए पढ़ा जाता है।
- सरकारी स्कूल में पढ़ाना किसी चुनौती से कम नहीं होता। उसमें स्टूडेंट खासे बिगड़ैल होते हैं। एक बार एक स्टूडेंट ने स्कूल से बाहर एक छात्रा को परेशान किया। उसे पुलिस पकड़ कर स्कूल ले आई, लेकिन स्कूल टीचर्स ने उस स्टूडेंट को पुलिस से बचाया। ऐसा करके उसे सिर्फ यह बताया गया कि हम तुम्हारी गलती पर पर्दा नहीं डाल रहे, बल्कि तुम्हें यह बता रहे कि जो शरारत तुमने की थी, उसकी सजा गंभीर भी हो सकती है। इस घटना के बाद उस स्टूडेंट ने कभी ऐसी हरकत नहीं की। गलती का अहसास होने पर ही स्टूडेंट बदलता है, मारने- पीटने से फायदा नहीं होता। इसके अलावा अगर स्टूडेंट अपनी आदतों में सुधार न करें तो उसके पैरंट्स को जरूर बताना चाहिए। कई बार देखने में आता है कि पैरंट्स को बुलाने की बात जब सामने आती है तो स्टूडेंट अपनी आदतों में बदलाव लाता है।
7 माता-पिता चाहते हैं कि उनका बच्चा सच्चाई को अच्छी तरह समझे। वह इसलिए कि यही ज्ञान उसे उभारेगा कि वह अपना जीवन यहोवा को समर्पित करे। लेकिन इसका यह मतलब नहीं कि समर्पण करने और बपतिस्मा लेने के लिए बच्चे को बाइबल की हर शिक्षा के बारे में सबकुछ पता होना चाहिए। दरअसल बपतिस्मे के बाद भी मसीह के हर चेले को सही ज्ञान में बढ़ते जाना चाहिए। (कुलुस्सियों 1:9, 10 पढ़िए।) तो फिर सवाल है कि बपतिस्मा लेने के लिए एक व्यक्‍ति को कितना ज्ञान होना चाहिए?
यदि रेड फर्न ग्रोथ जैसी किताबें आपको बहुत दुखी बनाती हैं, तो शायद इस पुस्तक में मुख्य पात्र वाले वैलेस वैलेस के साथ आप बहुत आम हैं। जब वह वर्ग के लिए एक पुस्तक रिपोर्ट लिखता है तो वह परेशानी में पड़ता है कि वह किताबों से नफरत करता है जहां कुत्ते अंत में मर जाता है। सजा के रूप में, उसे स्कूल के खेल में भाग लेने के लिए मजबूर होना पड़ता है जहां एक कुत्ता अंत में मर जाता है, लेकिन वह अपनी सजा को झूठ नहीं बोलता है। वह नाटक को रोलरब्लैड्स और मोपेड के साथ एक रॉक एन 'रोल ओपेरा में बदल देता है। इस पुस्तक के लेखक गॉर्डन कॉर्मन ने मेरे मध्य विद्यालय में बात की जब मैं एक बच्चा था, और मैं आपको बता सकता हूं कि वह एक उल्लसित, शानदार कहानीकार है। वह हमारे सभी छात्र, शिक्षक, और यहां तक ​​कि खुद भी हँसते थे। यह पुस्तक निश्चित रूप से मृत कुत्ते के ब्लूज़ को खुश करेगी।
भले ही आप निवास की अनुमति पर रहते हों या किसी विदेशी शहर में एक अपार्टमेंट किराए पर लेते हों, प्रसवपूर्व क्लीनिक आपको गर्भावस्था के लिए पंजीकृत करना चाहिए और मुफ्त में बनाए रखना चाहिए। लेकिन मैं हमेशा उन चिकित्सा प्रतिष्ठानों में नहीं जाना चाहता हूँ जहाँ आप हैं। लेकिन आप चयनित चिकित्सा सुविधा में गर्भावस्था के लिए पंजीकरण कर सकते हैं। आपको आवश्यकता होगी - पासपोर्ट; - बीमा पॉलिसी; - पैसा (वाणिज्यिक चिकित्सा केंद्रों से संपर्क करते समय)। अनुदेश 1 आपको एक विशिष्ट महिला परामर्श के लिए सौंपा जाने के लिए, आपको इस चिकित्सक संस्थान के प्रमुख चिकित्सक या प्रमुख को संबोधित एक बयान लिखना होगा। आपको आवेदन

इसी तरह तकलीफ होती है जब रमा शब्दोच्चारण को अंग्रेजी में किसी को बताना होता है. अदतन इसे Rama लिखा जाता है और उसे रामा समझा जाता है. रमा अंग्रेजी से होकर हिंदी में लौटने पर रामा हो जाता है. इनसे बचने के उपाय करने होंगे. रम (XXX Rum  नहीं) को लोग Ram लिखते हैं और पढ़ने वाला राम पढ़ता है. देखा. इस तरह रम, राम, रमा और रामा शब्द अंग्रेजी में जाने आने में ऐसे घुल जाते हैं कि सही शब्द का पता ही नहीं चलता. यदि एक से अधिक बार   जा – आ लिए, तो शब्द ही बदल जाता है. 

6. टीवी, मोबाइल, कंप्यूटर, गेम्स से चिपका रहे तो... कई पैरंट्स सीधे टीवी या कंप्यूटर ऑफ कर देते हैं। कई रिमोट छीनकर अपना सीरियल या न्यूज देखने लगते हैं। इसी तरह कुछ मोबाइल छीनने लगते हैं। कुछ इतने बेपरवाह होते हैं कि ध्यान ही नहीं देते कि बच्चा कितनी देर से टीवी देख रहा है या गेम्स खेल रहा है। कई बार मां अपनी बातचीत या काम में दखलंदाजी से बचने से लिए बच्चों से खुद ही बेवक्त टीवी देखने को कह देती हैं। 

शिक्षकों को तीनों विषयों की पढ़ाई में कमजोर बच्चों को आसान तरीकों से बच्चों का ज्ञान बढ़ाने के लिए कहा गया है। इस दौरान बच्चों को पढ़ाने के लिए विभाग की ओर से अलग स्टडी मैटीरियल भी तैयार किया गया है, जिसे सभी स्कूलों में भेज दिया गया है। इसमें गणित, विज्ञान और अंग्रेजी को रोचक बनाया गया है। एक्स्ट्रा लर्निंग मैटीरियल चित्रों पर आधारित है ताकि बच्चे खेल-खेल में तीनों विषयों के बारे में पूरा ज्ञान प्राप्त कर सकें। जिस विषय में अधिक बच्चे पिछड़ रहे हैं वहा विशेषज्ञ शिक्षकों की मदद भी ली जाएगी। सर्वशिक्षा अभियान के तहत प्रशिक्षण देने वाले प्रशिक्षकों से भी इस योजना के तहत सहयोग लिया जाएगा। एक्स्ट्रा क्लास समाप्त होने के बाद इन बच्चों का मूल्याकन भी करवाया जाएगा और बौद्धिक क्षमता यदि कक्षा के अनुरूप न हुआ तो फिर से यही प्रक्रिया दोहराई जाएगी।
17 जब ब्लौसम ब्रांट के माता-पिता को पूरा यकीन हो गया कि उनकी बेटी बपतिस्मे के लिए तैयार है, तब उन्होंने उसका साथ दिया। ब्लौसम समझाती है कि बपतिस्मे से एक रात पहले उसके पिता ने क्या किया, “पापा ने हमें घुटने टेकने के लिए कहा और फिर उन्होंने एक प्रार्थना की। उन्होंने यहोवा से कहा, ‘हमारी बिटिया कल बपतिस्मा लेने जा रही है। हम बहुत खुश हैं कि इसने अपना जीवन आपको समर्पित किया है।’” इस बात को 60 से भी ज़्यादा साल हो गए हैं मगर ब्लौसम कहती है, “आज भी मुझे वह रात अच्छी तरह याद है। मैं उसे कभी नहीं भूल सकती!” माता-पिताओ, हम दुआ करते हैं कि आपके बच्चे भी समर्पण और बपतिस्मे का अहम कदम उठाएँ और उन्हें ऐसा करते देख आपको भी खुशी मिले।
हर खंड में लगेगी कक्षाएं, प्रत्येक ग्रुप में होंगे 40 अध्यापक : जिला गणित विशेषज्ञ अशोक कुमार नामवाल ने बताया कि संपर्क फाउंडेशन की ओर से लगने वाले इन एक दिवसीय कैंप में प्राथमिक शिक्षकों को पढ़ाने के तरीकों के बारे में बताया जाएगा। इन क्लास में कक्षा पहली व दूसरी को गणित पढ़ाने वाले शिक्षकों को मैथ्स किट के बारे में भी बताएंगे। इसमें शिक्षकों के ग्रुप बनाकर पढ़ाए जाएंगे। प्रत्येक ग्रुप में 40 शिक्षक शामिल किए गए हैं। यह अभियान 9 मई से 31 मई तक चलेगा। इस क्लास में पहले पहली कक्षा के शिक्षक को बुलाएंगे और फिर दूसरी कक्षा के शिक्षकों को प्रशिक्षण दिया जाएगा। इसके लिए खंड मौलिक शिक्षा अधिकारी नोडल अफसर बनाए गए हैं।
ऐसा भी कहा जाता है कि बच्चों को रटाना नहीं है। इसलिए हम उसे अक्षर नहीं सिखाते। क्योंकि यह तरीका तो रटंत पद्धति पर आधारित है। वहीं मात्रा शिक्षण के बारे में धारणा है कि बच्चा उसे भी सीधे शब्द की तरह अपने आप पढ़ना सीख लेगा। मगर कैसे? इस सवाल का किसी के पास कोई जवाब नहीं है। इसी संदर्भ में असेसमेंट की बात हो रही थी कि हम जिन पैमानों पर बच्चों का असेसमेंट करते हैं जैसे अक्षर, शब्द, वाक्यांश और पैराग्राफ वह चीज़ें हमें बच्चों को भी सिखानी चाहिए।
×